Sunday, 6 May 2018

बीते लम्हे SHORT STORY

                          बीते लम्हे 




जो पुरानी यादों में जिंदगी ढूंढा करते है
उन्हें सिर्फ दो पल कि मुश्कुराहट ही नसीब होती है,
और फिर उम्र भर कि तन्हाई एक ऐसी तन्हाई जहाँ
हम भरी महफ़िल में भी अकेले हो जाते है,
और अधुरापन भी हमे पूरा लगने लगता है,
एक ऐसी मनहूसियत दिल पे छा जाती है
जो चाहे भी तो मिट नही पाती है,
और वो यादें भुलाये भी भुला नहीं पातें है,
रह रह के जिस्म में गड़े कांटे कि तरह दर्द दिए जाते है ।
और हम हंस हंस के टाल दिया करते है,
क्यूंकि शायद मुकद्दर को यही मंजूर था,
क्या सिकवा हम किसी और से करे जब
मंजिल ही हमसे रूठ गयी हो,
जो नायब तौफा खुदा से मिली थी
वो हांथों से यूँ छुटी कि टूट के बिखरी
और किनारे पे जा गिरी और कस्ती हमारी डूब गयी |







                                        By :- बिट्टू सोनी 

No comments:

Post a Comment

"माँ"

क्या बताऊं कैसी है माँ, धरती पे भगवान जैसी है माँ । हर दर्द को सहती है, पर जुबां से कुछ नही कहती है, सारे दुखरे को खुद में स...