Thursday, 22 February 2018

*जिंदगी एक सफ़र*

                  जिंदगी एक सफ़र

जिंदगी एक सफ़र है ,

कभी हसती है कभी रुलाती है ,
न जाने क्या-क्या सपने दिखती है|
दिल रोता है और होता है होटों पे हँसी,
दर-दर की ठोकरे खिलाती है,
फिर भी जिना सिखलाती है|

जिंदगी एक सफ़र है ,

न जाने किसकी तलाश है,
इसे बस यूँ ही भटकती  रहती है|
कभी तन्हाई में कभी रुसवाई में यूँ ही मचलती रहता है |
जिंदगी एक सफ़र है,
दर्द से भरी है फिर भी डट के खरी है,
न कोई हम सफ़र न कोई हम दम फिर भी चल रही है |


जिंदगी एक सफ़र है,

चुपके से तन्हाई में रोती है ,
न जाने किससे बाते करती है |
एक बरा सा नाटक है जिंदगी भी दोस्तों,
कभी सुनती है तालियाँ,
कभी निराश होती है|

जिंदगी एक सफ़र है,

गुजरे हुए लम्हे कभी वापस नहीं आतें,
फिर भी यादों को सजाएं उदास होती है |
बस यूंही कट रही जिंदगी है
ऐ जिंदगी बस तेरी यही कहानी है|

         रचनाकार :- बिट्टू सोनी

No comments:

Post a comment

उदासी

उदासी में खोये  क्यों हो, कुछ तो बोलो ना भला आज तुम खफा सा  क्यों हो, आंखे तो खोलो ना कशक बना कर दिल मे छुपाई...