Friday, 20 March 2020

उदासी

उदासी में खोये  क्यों हो,

कुछ तो बोलो ना

भला आज तुम खफा सा  क्यों हो,

आंखे तो खोलो ना

कशक बना कर दिल मे छुपाई सी क्यों हो

बिना आहट के दश्तक तो देदो ना

दर्द को आँसू बनाकर आँखों से बहाई क्यों हो


जो बातें दिल में है वही तो बोलो ना।

No comments:

Post a comment

उदासी

उदासी में खोये  क्यों हो, कुछ तो बोलो ना भला आज तुम खफा सा  क्यों हो, आंखे तो खोलो ना कशक बना कर दिल मे छुपाई...