Friday, 29 March 2019

"माँ"



क्या बताऊं कैसी है माँ,
धरती पे भगवान जैसी है माँ ।

हर दर्द को सहती है,
पर जुबां से कुछ नही कहती है,
सारे दुखरे को खुद में समेट लेती है,
बातें बना-बना कर हमें हंसाती है ।

क्या बताऊं कैसी है माँ,
धरती पे भगवान जैसी है माँ ।

आखें परेशानियाँ बयां करती है,
पर होंठो पे हमेश मुस्कान रहती है ।
जहाँ भी पाया धूप का साया,
वहाँ पे मिली उनकी आाँचल का छांया।

क्या बताऊं कैसी है माँ,
धरती पे भगवान जैसी है माँ ।

हमारे साथ अंधेरे में भी उजाला बन कर चलती है,
क्या बताऊँ कितना तकलीफ सहती है ।
मैं क्या कहूँ तारीफ में उनकी,
शब्द कम पर जाती है,
माँ तेरी याद बहुत आती है ।

क्या बताऊं कैसी है माँ,
धरती पे भगवान जैसी है माँ ।


BY : - BITTU SONI

No comments:

Post a Comment

यादेँ

आवारा शाम कि तरह ढलता रहा तेरी ख्यालों को पिरोता रहा गम-ए-ज़िन्दगी को जीता रहा  कैसे दुहराऊ उस कहानी को मै, जिसे हर साँस में य...