Sunday, 3 March 2019

READ AND ENJOY

No comments:

Post a Comment

यादेँ

आवारा शाम कि तरह ढलता रहा तेरी ख्यालों को पिरोता रहा गम-ए-ज़िन्दगी को जीता रहा  कैसे दुहराऊ उस कहानी को मै, जिसे हर साँस में य...